ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• पंजाब: तैयार हो गया सत्ता का रोडमैप…… कांग्रेस से गठबंधन कर सकती हैं AAP
• UP चुनाव :एक ऐसी सीट जिससे तय होती हैं यूपी में सरकार।
• सत्ता के लिए शिवसेना खेलेगी ये नया दांव……..बदला गया सियासी समीकरण।
• UP चुनाव: अखिलेश ने लैपटॉप योजना के जरिये PM मोदी पर कसा तंज, कहा -आपका सपना पूरा कर रहा।
• ये रहे वो आंकड़े जिसकी वजह से UP के नेताओं की नींद हराम हो सकती हैं….!!
• इस पार्टी में शामिल होंगे अमर सिंह…… बस अच्छे मौके का हैं इंतजार।
• US और यूरोप के बाद अब चीन भी हो गया हैं भारत के इस टैलेंट का फैन, अब कहेगा WELCOME.
• ऐश्वर्या राय रहेंगी सोशल मीडिया से दूर….. अभिषेक बच्चन ने लगाया बैन…. वजह जान चौक जायेंगे।
• BMC में BJP को रोकने के लिए कांग्रेस ने शिवसेना के साथ मिलकर चल दिया ये बड़ा दांव।
• कामकाज नहीं…. बल्कि इन कारणों से महाराष्ट्र निकाय चुनाव में लहराया हैं BJP का झंडा।
• BMC चुनाव में किसी को बहुमत नहीं, बौखलाए उद्धव ने कर दे दिया ये बड़ा एलान।
• शीला दिक्षित ने राहुल गांधी को दिया ये बड़ा बयान…….. हिल गई कांग्रेस।
• धोनी की कप्तानी छीन जाने से खुश हैं सहवाग……. जानें क्या हैं वजह।
• मोदी-मुलायम में कोई तुलना नहीं….मोदी मेरे फेवरेट है – अमर सिंह। अमिताभ बच्चन के बारे में भी किये चौंकाने वाले खुलासे।
• जियो की मुफ्त सेवाओं से सरकार को हुआ बड़ा घाटा…… लगा इतने करोड़ का चूना।

बड़ी खबर :नोटबंदी का फैसला लिया गया वापस, चलते रहेंगे पुराने नोट।

Advertisement

नोटबंदी के फैसले को लागू करना हर किसी के बस की बात नहीं हैं, कई बार ये उलटा पड़ जाता हैं। जानें किस सरकार के लिए ये फैसला पड़ा भारी।

नई दिल्ली, 18 दिसंबर :प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर की रात देश के नाम संदेश देते हुए एलान किया था कि आज आधी रात से 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए जायेंगे। इसके साथ ही लोगों को अपने पुराने नोट 30 दिसंबर तक बैंकों में जमा कराने के वक्त दिया गया था। देश की जनता ने नोटबंदी के फैसले का स्वागत किया था। लेकिन, राजनीतिक दल इसके विरोध में खड़े थे। संसद का पूरा शीतकालीन सत्र नोटबंदी के हंगामे की भेंट चढ़ गया। लेकिन, प्रधानमंत्री मोदी अपने फैसले पर डटे और टस से मस तक नहीं हुए। वे लगातार जनता से सहयोग की अपील करते रहे और सरकार लोगों को राहत पहुंचाने के लिए हर मुमकिन कोशिश करती रही।

Advertisement

पीएम मोदी के नोटबंदी का ये फॉर्मूला दुनिया भर में हिट हुआ। दुनिया के बाकी देश ये देखकर आश्चर्यचकित थे कि इतने बड़े देश में ये सब कैसे हो गया। पीएम मोदी के इस फैसले प्रभावित होकर वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने देश की सबसे बड़ी करेंसी को बंद करने का फैसला लिया था। मादुरो ने 11 दिसंबर को सबसे बड़ी करेंसी 100 बोलिवर के नोटों को बंद करने का एलान किया था। जिससे देश में भारी किल्लत और अराजकता के माहौल हो गया था। लोगों को नई करेंसी नहीं मिल पा रही थी। देश में चारों तरफ अफरा-तफरी मची हुई थी।नोटबंदी के फैसले के बाद पूरे देश में विरोध-प्रदर्शन होने लगे। प्रदर्शनों ने हिंसक रूप भी धारण कर लिया। फैसले के बाद देश में फैली हिंसा में दर्जनों दुकानें लूटी गई हैं।

Advertisement

इसके साथ ही विरोध-प्रदर्शन में कुछ लोगों की मौत की भी खबर है। हालांकि, अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। देश के कई शहरों में हिंसक झड़प की भी खबर है। पुलिस ने दर्जनों लोगों को हिरासत में लिया है। वेनेजुएला की टोटल करेंसी का 77 फीसदी हिस्सा 100 बोलिवर के नोट में था। राष्ट्रपति की ओर से इन नोटों को बदलने के लिए 10 दिन का वक्त दिया गया था। राष्ट्रपति ने एलान करते हुए कहा था कि माफियाओं से निपटने के लिए उन्होंने यह कदम उठाया है। उन्होंने माफियाओं पर ऐसे नोटों की जमाखोरी करने का आरोप लगाया। इसके साथ ही देश की सभी सीमाओं को सील कर दिया गया था ताकि कोलंबिया जैसे देशों में जमा 100 बोलिवर की ब्लैक मनी वापस देश में नहीं आने पाये।

लेकिन, क्रिसमस से ठीक पहले नोटबंदी के फैसले से यहाँ के लोगों की परेशानियां लगातार बढ़ती ही जा रही थी। बहरहाल हंगामे को देखते हुए राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने नोटबंदी के फैसले को टाल दिया हैं। राष्ट्रपति के मुताबिक अब इस फैसले को जनवरी की शुरुआत में लागू किया जा सकता है। मादुरो ने अपने प्रेजिडेंशल पैलेस से संबोधित करते हुए नोटबंदी को स्थगित किए जाने के लिए विरोधियों के प्रचार को जिम्मेदार ठहराया।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-

Related Articles