ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• दस्तावेजों में हुआ खुलासा, अनिल कुंबले ने पेश की थी ये बड़ी डिमांड।
• ट्रैफिक पुलिस के इस हरकत से बुमराह को आया गुस्सा, जानिये क्या है पूरा मामला
• पीएम मोदी के मुरीद हुआ कांग्रेस का ये बड़ा नेता, गडकरी को बताया विकास पुरुष
• राजद नेता ने तेजप्रताप पर लगाया ये संगीन आरोप, कहा -मुझे धक्का देकर और…
• मोदी के दौरे से पहले ट्रंप ने दिया PAK को झटका, छीन सकता है सहयोगी देश होने का दर्जा।
• योगी सरकार को बड़ा झटका, हाई कोर्ट ने अखिलेश के इन चहेतों को किया बहाल।
• विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार मीरा कुमार को लेकर CM योगी दिया ये बड़ा बयान।
• अंतरिक्ष में ISRO की एक और बड़ी कामयाबी, PM मोदी और राहुल गाँधी ने दी बधाई।
• महागठबंधन में दरार, नीतीश के फैसले पर लालू यादव ने दिया ये बड़ा बयान।
• कश्मीर :जामिया मस्जिद के बाहर भीड़ ने DSP की पीट-पीटकर कर दी ह्त्या।
• कुंबले-कोहली विवाद में अब कूदे सौरव गांगुली…. कही ये बड़ी बात।
• भारत के बाद अब नेपाल में बाबा रामदेव को झटका, ये 6 प्रोडक्ट लैब में हुए फेल।
• बेस्टइंडीज के खिलाफ होने वाले मैच के पहले कोहली ने किया ये खुलासा, आलोचकों के मुंह पर लगा ताला।
• विराट कोहली के लिए पानी आता है फ्रांस से, एक बोतल की कीमत जान होश उड़ जायेंगे।
• लालू ने नीतीश कुमार को दी सलाह, कहा -ऐतिहासिक भूल मत कीजिये।

नोटबंदी पर रूस ने दी भारत को धमकी, कहा- नहीं देंगे भारतीय राजनयिकों को पैसा।

नोटबंदी के बाद नकदी की किल्लत के कारण दिल्ली स्थित रुसी दूतावास में मौजूद राजनयिक इस वक्त नकदी की भारी किल्‍लत से गुजर रहे हैं।

नई दिल्ली, 07 दिसंबर :प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले के बाद नकदी की किल्लत के चलते दिल्ली स्थित रूसी दूतावास में कामकाज प्रभावित होने पर रूस ने भारत के समक्ष अपना कड़ा विरोध जताया है। रूस का कहना है कि नोटबंदी की वजह से दिल्ली में उसके राजनयिकों को नकदी की भारी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। रूस ने इस मुद्दे पर धमकी देते हुए कहा है कि यदि इस समस्या का जल्द समाधान नहीं किया गया तो मॉस्को में मौजूद भारतीय राजदूत को समन जारी किया जाएगा। इससे पहले पाकिस्तानी दूतावास ने भी नोटबंदी के मुद्दे पर विदेश मंत्रालय में अपना विरोध दर्ज कराया था।

Advertisement

इस संबंध में रूसी राजदूत एलेक्जेंडर कदाकिन ने विदेश मंत्रालय को एक पत्र में लिखा कि रूसी राजनयिकों के नकदी निकासी पर लगी रोक के मामले में हस्तक्षेप करें। पत्र के माध्यम से कहा कि प्रति सप्ताह 50 हजार रूपए की अपर्याप्त सीमा से दूतावास का सामान्य कामकाज प्रभावित हो रहा है। इसके अलावा भारतीय स्टेट बैंक ने दूतावास को सूचित किया है कि जब तक रिजर्व बैंक कोई निर्देश नहीं दे इस मामले में कुछ नहीं कर सकते हैं। आपको बता दें कि रूसी दूतावास में करीब 200 कर्मचारी कार्यरत हैं। रूसी दूतावास में एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हम विदेश मंत्रालय के जवाब की प्रतीक्षा कर रहे हैं और उम्मीद है कि जल्द ही इसका हल निकाला जाएगा।

उन्होंने बताया कि अगर इस समस्या का हल नहीं निकलता तो हम मॉस्को में आपके दूतावास के भारतीय राजनियकों को तलब कर उनके समक्ष इस मुद्दे को उठाने सहित अन्य विकल्पों पर सोचने को मजबूर हो जाएंगे। अधिकारी ने इस बात का भी संकेत दिया कि अन्य विकल्पों में रूस में तैनात भारतीय राजनयिकों के लिए धन निकासी पर अंकुश भी लगाया जा सकता है। गौरतलब है कि इस मुद्दे पर फिलहाल भारतीय विदेश मंत्रालय ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। इससे पहले, डीन ऑफ डिप्लोमेटिक कोर ने भी यह मुद्दा उठाते हुए दूतावास को हो रही समस्याओं की शिकायत की थी।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को 500 और 1000 रुपये के नोटों के इस्तेमाल पर रोक लगाने की घोषणा की थी। जिससे सर्कुलेशन में मौजूद करीब 86 फीसदी नकद चलन से बाहर हो गए थे। इसके बाद से देश भर में लोगों को नकदी की भारी किल्लत के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में सरकार ने नकदी वितरण को सुचारू रखने के लिए बैंकों एवं एटीएम से नकद निकासी पर सीमा लगा रखी है।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles