ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• लगातार हो रही आलोचना पर धोनी ने तोड़ी चुप्पी, विरोधियों को दिया ये करारा जवाब।
• इस IPS ने काटा था धोनी का चालान, अब इस काम के लिए मिलेगा पुरस्कार।
• मध्य प्रदेश में भाजपा को लगा तगड़ा झटका, चित्रकूट विधानसभा सीट पर कांग्रेस का कब्जा।
• यहां लगा था वो शीशा, जहां से अलाउद्दीन खिलजी ने पद्मावती को देखा था।
• गोरा होने के लिए चेहरे पर कभी न लगाएं नींबू और ये 5 चीजें, बढ़ेगा सांवलापन।
• पिता की ख़ुशी की लिए बेटियों ने सड़क पर खुलेआम किया ये काम, लोग बोले …!
• राहुल गांधी ने छीन ली PM मोदी की सबसे बड़ी ताकत, गुजरात में अब कांग्रेस की जीत पक्की।
• ग्रेट खली ने किया खुलासा, इस एक वजह से अब नहीं जाते हैं WWE में लड़ने।
• चुनाव से पहले ही हार गई भाजपा, इस सबसे बड़ी सीट पर हुआ कांग्रेस का कब्जा।
• जानिये, आखिर क्यों किन्नरों के घर पर या उनके हाथों से बना खाना कर देना चाहिए नजरअंदाज।
• 70 साल के इस बुजुर्ग ने यंग लड़की से की शादी, जानिये क्या है पूरी सच्चाई।
• शादी से मुकर गए लड़के वाले तो घर पहुंच गई लड़की, कहा -शादी तो इसी से करुँगी।
• रिलायंस Jio के 399 के रिचार्ज पर रिटर्न होने 300 रूपये, बस फॉलो करने ये स्टेप।
• जानिये, आखिर सड़कों के बीच क्यों खींची जाती है सफ़ेद और पीले रंग की लाइनें।
• लालू यादव ने किया ऐलान, अगले बिहार चुनाव में ये होंगे राजद के CM कैंडिडेट।

पिता चाहते थे लड़की से करूं शादी, पर मुझे चाहिए था लड़का’- फिर हुआ ये।

कुछ लड़कों में लड़की बनने की चाहत होती है तो वहीं, किसी लड़की को लड़का बनने की चाहत होती है लेकिन आज के दौर में ये संभव है। 

नई दिल्ली, 11 सितंबर :अक्सर देखा गया है कि कुछ लड़कों में लड़कियां बनने की चाहत होती है, तो किसी लड़की को लड़का बनने की चाहत होती है। यह हार्मोन के हेर-फेर की वजह से भी हो सकता है। लेकिन, आज के दौर में ये संभव हो गया है कि अगर आप भी लड़की बनना चाहते हैं तो आसानी से बन सकते हैं। वैसे तो अभी तक कई ट्रांसजेंडर लोगों के बारे में सुना होगा जिन्होंने ट्रांसप्लांट कराया है।

Advertisement

इन्हीं में से एक है कोलकाता की रहने वाली 26 वर्षीय नीताषा बिस्वास। आपको बता दें, नीताषा इंडिया की पहली मिस ट्रांसजेंडर क्वीन बन चुकी है। नीताषा ने मार्च 2018 में थाईलैंड में होने वाले मिस इंटरनेशनल ट्रांसक्वीन में भारत को रिप्रजेंट करेंगी। हालांकि उन्होंने अपनी जिंदगी में आई हर एक रूकावट और परेशानियों का डटकर सामना किया। जब वो बड़ी होने लगी तो उन्हें ये अहसास हुआ कि उनके शरीर के अंदर एक महिला छुपी हुई है।

इसलिए उन्होंने हार्मोन्स रिप्लेसमेंट थेरेपी लेना शुरू कर दिया। इस तरह आदमी से औरत बनने में उन्हें 3 से 4 साल तक का समय लगा। उन्होंने बताया कि आप शरीर से क्या है और आत्मा से क्या, इसका ज्ञान काफी मुश्किल है। उन्होंने बताया कि उनका शरीर एक आदमी का था लेकिन, उनकी आत्मा शुरू से एक महिला वाली थी। बचपन में जब उनके सारे दोस्त बाहर खेलने जाते थे तो वो घर में बैठकर टीवी देखती थी।

पहले उन्हें लगता था कि ये उनका पागलपन है लेकिन, लेकिन दसवीं तक पहुंचने तक, नीताषा जान चुकी थी कि वो असल में क्या हैं? इसके बाद नीताषा दिल्ली गयी। जहां उन्होंने अपनी ट्रांजीशन करने की शुरुआत की। नीताषा ने बताया कि जब उन्होंने ट्रांजीशन कराने का फैसला लिया तो उनके इस फैसले का काफी विरोध किया गया। उनके ज्यादातर दोस्त उनका साथ छोड़ने लगे। कईयों ने तो उनसे बात तक करनी बंद कर दी।

ऐसे में उनके पापा ने समझाते हुए कहा कि तुम्हारे लिए एक बंगाली लड़की ढूंढकर शादी करवा देता हूं लेकिन, नीताषा बोली कि मुझे एक लड़का चाहिए। इस तरह इतनी मुश्किलें और रुकावटों को सहने के बाद आज नीताषा भारत की पहली ट्रांस क्वीन बनकर बाकी ट्रांसजेंडरको प्रेरणा दे रही हैं।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles