ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• नवरात्र में पहने इन 9 रंगों के कपड़े, मनोकामना होगी पूर्ण, घर में आएगी सुख-संपति।
• 3 महीने की प्रेग्नेंट निकली 8वीं की छात्रा, भाजपा के इस नेता पर लगाया रेप का आरोप।
• पत्नी को दोस्तों संग सोने को कहता था ये शख्स, यूपी के इस मंत्री का भी आया नाम।
• इन 6 बैंकों में है आपका खाता तो 30 सितंबर से पहले कर लें ये काम, वर्ना हो जाएगा नुकसान।
• हामिद अंसारी की पत्नी सलमा ने दिया ये चौंकाने वाला बयान, लोगों ने लगा दी क्लास।
• जब पहले वनडे के बाद पूरी टीम कुछ ऐसे कर रही थी एयरपोर्ट पर आराम, धोनी कर बैठे ऐसी हरकत।
• राम रहीम के साथ एक बेड पर सोती थी हनीप्रीत, सहेली ने किये और भी कई खुलासे।
• 70 सालों से बंद था इस घर का दरवाजा, खुलते ही खुली परिवार की किस्मत।
• मां ने बेटे से कहा -तुम बड़े हो गए हो मेरे पति की कमी पूरी करो और फिर हुआ ये।
• पिता के इलाज के लिए बच्ची ने PM मोदी को लिखा लेटर, तो CM योगी ने दिया ये जवाब।
• JDU राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाये गये नीतीश कुमार, लालू के साथ फिर होगा JDU का महागठबंधन।
• शाहरुख़ या सलमान नहीं बल्कि इस बॉलीवुड एक्टर को डेट करना चाहती है ये दिग्गज खिलाड़ी।
• 16 साल के लड़के पर आया मैडम का दिल, राज खुला तो उठाया ये बड़ा कदम।
• पाकिस्तानी पुलिसवाले ने कोहली को किया शादी के लिए प्रपोज, लोगों ने लगा दी क्लास।
• पीएम मोदी ने आडवाणी को क्यों दी सजा, इस बड़े नेता ने किया चौंकाने वाला खुलासा।

आर्मी जनरल के घर पैदा हुई किन्नर ने 17 साल बाद बताई अपनी आप बीती – ‘पापा आज बात भी नहीं करते’

किन्नर

पांच भाई-बहनों में दूसरे नंबर पर सुधा ने जब अपनी आपबीती सुनाई तो कलेजा पसीज गया।

नई दिल्ली (ब्यूरो) : किसी इंसान के साथ किस्मत कब-क्या खेल खेलती है कुछ कहा नहीं जा सकता। इसे किस्मत ही नहीं तो और क्या कहेंगे की भारत के आर्मी जनरल जैसे बड़े घर में एक किन्नर पैदा हुई और उसे जिल्ल्त की जिंदगी जीने के लिए हमारे समाज ने मजबूर कर दिया। हमारा समाज उन्हें सारी खूबियों और हर कार्य योग्य होते हुए भी कोई तवज्जो नहीं देता है, जिसके चलते वे ऐसे कार्यों को करने के लिए मजबूर हो जातें है जो एक सभ्य और आधुनिक समाज में कतई स्वीकार्य नहीं है।

Advertisement

ये कहानी ऐसे ही एक किन्नर सुधा की है जिसका जन्म सीवान (बिहार) में आर्मी जनरल के घर में हुआ था। अपने पांच भाई-बहनों में दूसरे नंबर पर सुधा ने जब अपनी आपबीती सुनाई तो कलेजा पसीज गया। सुधा कहती है की जब में छठी क्लास में थी तभी पता चलने लगा गया था में दूसरे से अलग हूँ। जब ये बात फैली तो लोग मुझे और मेरे परिवारवालों को तानें मरने लगे जिससे आये दिन मेरे कारण परिवारवालों को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता था। आखिर में जब हद हो गयी तो मैंने घर छोड़ने का फैसला किया और 14 साल की उम्र में 1999 में  भागकर लखनऊ आ गयी। हालाँकि इस दौरान मेरे पापा और भाइयों का मुझे पूरा स्पोर्ट था।

सुधा आगे कहती है की – लखनऊ में मेरी मुलाकात किन्नर समाज के गुरु संध्या से हुई जिन्होंने मुझे अपने साथ रखा और पिछले 17 सालों से मैं उनके साथ हूँ, और आगे भी रहना चाहती हूँ। आपको बता दें की सुधा रेलवे में नौकरी करना चाहती है ताकि वो भी एक आम जिंदगी जी सके जिसके लिए वे इग्नू के बीपीपी प्रोग्राम में एडमिशन भी ली है जो 6 महीने का कोर्स है और उसके बाद पीजी करेगी। इग्नू लखनऊ के असिस्टेंट रीजनल डायरेक्टर डॉ. कीर्ति विक्रम सिंह के मुताबिक सुधा लगातार कड़ी मेहनत कर रही है और वह पढाई में मन लगा रही है।

सुधा ने बताया की उनकी परिवार वालों और भाई-बहन से लगातार फोन पर बात होती रहती है, लेकिन पापा से बात नहीं हो पाती है क्यूंकि वे सुधा के घर से भागने वाली बात को लेकर अब तक नाराज है। वे चाहते थे की सुधा घर पर ही रहे।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles