ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• लगातार हो रही आलोचना पर धोनी ने तोड़ी चुप्पी, विरोधियों को दिया ये करारा जवाब।
• इस IPS ने काटा था धोनी का चालान, अब इस काम के लिए मिलेगा पुरस्कार।
• मध्य प्रदेश में भाजपा को लगा तगड़ा झटका, चित्रकूट विधानसभा सीट पर कांग्रेस का कब्जा।
• यहां लगा था वो शीशा, जहां से अलाउद्दीन खिलजी ने पद्मावती को देखा था।
• गोरा होने के लिए चेहरे पर कभी न लगाएं नींबू और ये 5 चीजें, बढ़ेगा सांवलापन।
• पिता की ख़ुशी की लिए बेटियों ने सड़क पर खुलेआम किया ये काम, लोग बोले …!
• राहुल गांधी ने छीन ली PM मोदी की सबसे बड़ी ताकत, गुजरात में अब कांग्रेस की जीत पक्की।
• ग्रेट खली ने किया खुलासा, इस एक वजह से अब नहीं जाते हैं WWE में लड़ने।
• चुनाव से पहले ही हार गई भाजपा, इस सबसे बड़ी सीट पर हुआ कांग्रेस का कब्जा।
• जानिये, आखिर क्यों किन्नरों के घर पर या उनके हाथों से बना खाना कर देना चाहिए नजरअंदाज।
• 70 साल के इस बुजुर्ग ने यंग लड़की से की शादी, जानिये क्या है पूरी सच्चाई।
• शादी से मुकर गए लड़के वाले तो घर पहुंच गई लड़की, कहा -शादी तो इसी से करुँगी।
• रिलायंस Jio के 399 के रिचार्ज पर रिटर्न होने 300 रूपये, बस फॉलो करने ये स्टेप।
• जानिये, आखिर सड़कों के बीच क्यों खींची जाती है सफ़ेद और पीले रंग की लाइनें।
• लालू यादव ने किया ऐलान, अगले बिहार चुनाव में ये होंगे राजद के CM कैंडिडेट।

आर्मी जनरल के घर पैदा हुई किन्नर ने 17 साल बाद बताई अपनी आप बीती – ‘पापा आज बात भी नहीं करते’

किन्नर

पांच भाई-बहनों में दूसरे नंबर पर सुधा ने जब अपनी आपबीती सुनाई तो कलेजा पसीज गया।

नई दिल्ली (ब्यूरो) : किसी इंसान के साथ किस्मत कब-क्या खेल खेलती है कुछ कहा नहीं जा सकता। इसे किस्मत ही नहीं तो और क्या कहेंगे की भारत के आर्मी जनरल जैसे बड़े घर में एक किन्नर पैदा हुई और उसे जिल्ल्त की जिंदगी जीने के लिए हमारे समाज ने मजबूर कर दिया। हमारा समाज उन्हें सारी खूबियों और हर कार्य योग्य होते हुए भी कोई तवज्जो नहीं देता है, जिसके चलते वे ऐसे कार्यों को करने के लिए मजबूर हो जातें है जो एक सभ्य और आधुनिक समाज में कतई स्वीकार्य नहीं है।

Advertisement

ये कहानी ऐसे ही एक किन्नर सुधा की है जिसका जन्म सीवान (बिहार) में आर्मी जनरल के घर में हुआ था। अपने पांच भाई-बहनों में दूसरे नंबर पर सुधा ने जब अपनी आपबीती सुनाई तो कलेजा पसीज गया। सुधा कहती है की जब में छठी क्लास में थी तभी पता चलने लगा गया था में दूसरे से अलग हूँ। जब ये बात फैली तो लोग मुझे और मेरे परिवारवालों को तानें मरने लगे जिससे आये दिन मेरे कारण परिवारवालों को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता था। आखिर में जब हद हो गयी तो मैंने घर छोड़ने का फैसला किया और 14 साल की उम्र में 1999 में  भागकर लखनऊ आ गयी। हालाँकि इस दौरान मेरे पापा और भाइयों का मुझे पूरा स्पोर्ट था।

सुधा आगे कहती है की – लखनऊ में मेरी मुलाकात किन्नर समाज के गुरु संध्या से हुई जिन्होंने मुझे अपने साथ रखा और पिछले 17 सालों से मैं उनके साथ हूँ, और आगे भी रहना चाहती हूँ। आपको बता दें की सुधा रेलवे में नौकरी करना चाहती है ताकि वो भी एक आम जिंदगी जी सके जिसके लिए वे इग्नू के बीपीपी प्रोग्राम में एडमिशन भी ली है जो 6 महीने का कोर्स है और उसके बाद पीजी करेगी। इग्नू लखनऊ के असिस्टेंट रीजनल डायरेक्टर डॉ. कीर्ति विक्रम सिंह के मुताबिक सुधा लगातार कड़ी मेहनत कर रही है और वह पढाई में मन लगा रही है।

सुधा ने बताया की उनकी परिवार वालों और भाई-बहन से लगातार फोन पर बात होती रहती है, लेकिन पापा से बात नहीं हो पाती है क्यूंकि वे सुधा के घर से भागने वाली बात को लेकर अब तक नाराज है। वे चाहते थे की सुधा घर पर ही रहे।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles