ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• रोज खाएं पानी में भीगी हुई मूंगफली के कुछ दाने, होंगे ये 7 फायदे।
• इंटरव्यू के दौरान पूछा गया अटपटा सवाल, जिसका लड़की ने दिया ये करारा जवाब।
• प्रियंका चोपड़ा ने कैमरे के सामने इस काम को कहा था ना, भुगतना पड़ा था ये खामियाजा।
• ये है राष्ट्रपति की बेटी, अब इस कारण से छोड़नी पड़ रही है एयरहोस्टेस की जॉब।
• जब शूटिंग के दौरान प्रेग्नेंट हो गई थी ये एक्ट्रेस, घर बैठने के बजाये किया कुछ ऐसा।
• कमजोर शरीर में जान डाल देगा ये ड्राई फ्रूट, पोषण से है भरपूर।
• चाय बेचकर बना करोड़पति, कभी इस वजह से रिजेक्ट कर देते थे लड़की वाले।
• PM मोदी को सुनानी हो फ़रियाद या करना चाहते है सीधे संपर्क, इन 8 तरीकों से हो सकती है बात।
• टीम इंडिया के इस गेंदबाज ने किया खुलासा, टीम में जगह न मिलने पर करना चाहता था सुसाइड।
• दौड़ के बाद हुई छात्र की मौत, अंतिम संस्कार के दौरान खुली आंख तो हुआ ये सब।
• पति नहीं करता था टच, पत्नी ने सुसाइड नोट में लिखी ये रुला देने वाली बात।
• लगातार हो रही आलोचना पर धोनी ने तोड़ी चुप्पी, विरोधियों को दिया ये करारा जवाब।
• इस IPS ने काटा था धोनी का चालान, अब इस काम के लिए मिलेगा पुरस्कार।
• मध्य प्रदेश में भाजपा को लगा तगड़ा झटका, चित्रकूट विधानसभा सीट पर कांग्रेस का कब्जा।
• यहां लगा था वो शीशा, जहां से अलाउद्दीन खिलजी ने पद्मावती को देखा था।

रामरहीम के “विषकन्या” का खुला राज, इसे अय्याशी के लिए कुछ ऐसे करता था यूज।

रामरहीम

नई दिल्ली(ब्यूरो) : डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम साध्वी से रेप केस मामले में जेल में सजा काट रहा है। उसके कुकर्मों को लेकर हर दिन नए खुलासे हो रहे हैं। आपको बता दें की 750 एकड़ में फैले बाबा के डेरे में रहने वाली लड़कियों को साध्वियां और शाही बेटियां कहा जाता था। लेकिन डेरा में रहने बाले लडकियां से जुडी आज एक और सच्चाई सामने आयी है जो कम ही लोगों को पता है। राम रहीम के सेवा में एक ख़ास तरह की लड़कियों की टोली रहती थी जिसे रामरहीम “विषकन्या” का नाम दिया था। तो आइये जानते है आखिर इस विषकन्या की ख़ास बात क्या थी और रामरहीम इसे किस तरह तैयार करता था।

रामरहीम की सेवा के लिए “विषकन्या” की खास टोली रहती थी जिसका मुख्य काम राम रहीम के बिस्तर के लिए लड़कियां तैयार करना होता था। इस “विषकन्या” की सबसे ख़ास बात ये थी की जब कोई लड़की इस टोली शामिल हो  जाती थी उसका संबंध सिर्फ डेरे से ही होता था और उसे बाहरी दुनिया से कोई मतलब नहीं रहता था, यहाँ तक की उसे अपने परिवार से भी नाता तोड़ना पड़ता था। विषकन्याओं में सबसे ख़ास बात ये है की इसमें वही महिला शामिल हो सकती थी जो रामरहीम के विश्वाशो पर खरी हो और बहुत दिन से रामरहीम के बिस्तर गर्म करती आयी हो।

Advertisement

अगर कोई महिला विषकन्या में शामिल हो जाती थी तो रामरहीम की उसपर विशेष कृपा होती थी और उसके हर प्रकार के सुख-सुबिधा का ख्याल रामरहीम रखता था। ये विषकन्या ही होती थी जो रामरहीम के कपड़ों, खान-पान से लेकर उसके लिए नई और सुंदर लड़कियों को गुफा तक भेजने का काम देखती थीं। चलिए अब आपको बताते है की गुरमीत कैसे इन विषकन्याओं का चुनाव करता था। इस बारे में डेरे से जुड़े एक गुप्त सूत्र ने कहा की अनपढ़ और सुंदर न दिखने वाली लड़कियों पर विषकन्या की नजर रहती थी जिसे वो प्रबंधन से कहकर डेरे में खाना बनाने से लेकर मंच की साज सज्जा जैसे कामों में लगा देती थीं, जबकि बेहद खूबसूरत लड़कियों को डेरे में बने स्कूल में पढ़ाने या किसी दूसरे अच्छे काम में लगा दिया जाता था।

इस दौरान एक बात ख्याल रखा जाता था की इन लोगों को अन्य साध्वियों को दूर रखा जाता था और बाबा के साथ हमबिस्तर होने के लिए बिषकन्याओं द्वारा लगातार इन लोगों का ब्रेन-वाश किया जाता था। हालाकिं इस दौरान कई लडकियां अपनी मर्जी से इसके लिए तैयार हो जाती थी जबकि कुछ को जबरन बाबा के हमविस्तर होने के लिए तैयार किया जाता था। अगर इन लड़कियों में से कोई बाबा की खिलाफ आवाज उठाती तो उसे 24 घंटे भूखा रखा जाता और विषकन्याओं द्वारा जमकर पिटा जाता था।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles