ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• लगातार हो रही आलोचना पर धोनी ने तोड़ी चुप्पी, विरोधियों को दिया ये करारा जवाब।
• इस IPS ने काटा था धोनी का चालान, अब इस काम के लिए मिलेगा पुरस्कार।
• मध्य प्रदेश में भाजपा को लगा तगड़ा झटका, चित्रकूट विधानसभा सीट पर कांग्रेस का कब्जा।
• यहां लगा था वो शीशा, जहां से अलाउद्दीन खिलजी ने पद्मावती को देखा था।
• गोरा होने के लिए चेहरे पर कभी न लगाएं नींबू और ये 5 चीजें, बढ़ेगा सांवलापन।
• पिता की ख़ुशी की लिए बेटियों ने सड़क पर खुलेआम किया ये काम, लोग बोले …!
• राहुल गांधी ने छीन ली PM मोदी की सबसे बड़ी ताकत, गुजरात में अब कांग्रेस की जीत पक्की।
• ग्रेट खली ने किया खुलासा, इस एक वजह से अब नहीं जाते हैं WWE में लड़ने।
• चुनाव से पहले ही हार गई भाजपा, इस सबसे बड़ी सीट पर हुआ कांग्रेस का कब्जा।
• जानिये, आखिर क्यों किन्नरों के घर पर या उनके हाथों से बना खाना कर देना चाहिए नजरअंदाज।
• 70 साल के इस बुजुर्ग ने यंग लड़की से की शादी, जानिये क्या है पूरी सच्चाई।
• शादी से मुकर गए लड़के वाले तो घर पहुंच गई लड़की, कहा -शादी तो इसी से करुँगी।
• रिलायंस Jio के 399 के रिचार्ज पर रिटर्न होने 300 रूपये, बस फॉलो करने ये स्टेप।
• जानिये, आखिर सड़कों के बीच क्यों खींची जाती है सफ़ेद और पीले रंग की लाइनें।
• लालू यादव ने किया ऐलान, अगले बिहार चुनाव में ये होंगे राजद के CM कैंडिडेट।

यहां पिता करता है अपनी ही बेटी से विवाह, बन जाती है मां का सौतन।

दुनिया में एक ऐसी जगह भी है जहां बेटियां अपने ही पिता की दुल्हन बन जाती है और उसे मां का सौतन बनना पड़ता है। 

नई दिल्ली, 27 अगस्त : दुनिया में कई अजीबो-गरीब परम्पराएं है जिसके बारे में आपने अक्सर सुना होगा। हमारे समाज में शादी होने के बाद बेटी अपने मां-बाप के घर से विदा होकर ससुराल जाती है। लेकिन, एक ऐसी जगह है जहां बेटियों को अपने ही पिता से शादी करनी पड़ती है। बांग्लादेश के मंडी जनजाति की लड़कियां बचपन से ही अपने पिता से शादी करने के सपने देखती हैं क्योंकि शुरुआत से ही इस जाति में शादी अपने पिता से करने की परंपरा रही हैं।

Advertisement

हर लड़की का सपना होता है कि उसका पति उसके पिता के जैसा हो मगर इस जनजाती की लड़कियां बचपन से ही अपने पिता के साथ शादी करने के सपने देखती हैं।इस जनजाति में मां और बेटी को एक ही पुरुष से शादी करनी पड़ती है ताकि उनका समुदाय बचा रहे और महिलाओं की रक्षा हो सके। हालांकि, बदलते वक्त के साथ स समुदाय के लोगों ने अब इस परंपरा को मानने से मना कर दिया है।

पिता को अपनी ही बेटी से शादी करने के पीछे तर्क दिया जाता है कि इस परंपरा की शुरुआत उस वक्त से शुरू हुई जब एक महिला का पति कम उम्र में चल बसा। ऐसी स्थिति में महिला को अपने पति के खानदान में से ही एक कम-उम्र के आदमी से शादी करनी होती है। ऐसे में कम उम्र के नए पति की शादी उसके होने वाली पत्नी की बेटी के साथ मंडप में जाती है।

बताया जाता है कि कम उम्र में बना पति अपनी नई पत्नी और उसकी बेटी का भी पति बनकर दोनों की सुरक्षा लंबे समय तक कर सकता है। वहीं, इस जनजाति के लोगों का कहना है कि इस परंपरा के पीछे का खास मकसद संपति के बंटवारे को रोकने के साथ ही महिलाओं की सुरक्षा करना है।

हालांकि, इस परम्परा के चलते माँ और बेटी के रिश्ते वैसे नहीं रह पाते हैं जैसे कि सामान्य परिस्थितियों में रहते हैं। मां और बेटी दोनों के बीच संबंध तनावपूर्ण रहते हैं और दोनों एक ही पति के कारण एक दूसरे को पसंद नहीं करती हैं। भारत और बांग्लादेश में मंडी जनजाति के करीब बीस लाख लोग रहते हैं।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles