ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• बॉलीवुड के इस सिंगर ने एक बच्ची की मां से रचाई थी शादी, विवादों से रहा हैं नाता।
• वनडे टीम से बाहर चल रहे अश्विन ने विराट कोहली को लेकर दिया बयान, मचा हंगामा।
• नाक के आकार से जानिये इंसान का स्वभाव, जानें क्या कहती हैं आपकी नाक आपके बारे में।
• मोदी सरकार के इस नए स्कीम से कमायें 80 हजार प्रति महीने, ऐसे उठाये फायदा.
• JIO के बाद मुकेश अम्बानी का एक और जबर्दस्त धमाका, मात्र इतने रुपये प्रति लीटर मिलेगा पेट्रोल.
• अमिताभ बच्चन की बेटी के बारे में सामने आई ऐसी सच्चाई, सुनकर होश उड़ जायेंगे आपके।
• दीपिका पादुकोण ने किया खुलासा, 55 साल के इस शख्स के साथ करना चाहती है शादी।
• CM योगी ने 10 साल पहले इस लड़की के सिर पर रखा था हाथ, आज तक निभा रहे हैं साथ।
• गुपचुप तरीके ने जहीर खान ने इस बॉलीवुड एक्ट्रेस से रचाई शादी, तो रोहित शर्मा ने कही ये बात।
• USA में जॉब छोड़ गाँव में बकरियां पाल रहा है ये साइंटिस्ट, कमा रहा है लाखों।
• गुजरात चुनाव में PM मोदी ने चल दिया सबसे बड़ा दांव, दंग रह गई कांग्रेस पार्टी।
• गुप्त सुरंग से इस मंदिर में आती थी रानी पद्मावती, दिखती थी कुछ ऐसी।
• धोनी ने किया खुलासा, 2007 में इसलिए बनाया गया था टीम इंडिया का कप्तान।
• शादी की पहली रात दूल्हे ने होटल में पत्नी के साथ किया ऐसा काम, वह हो गई बेहोश।
• 6 साल के लव अफेयर का ऐसे हुआ अंत, BF ने लड़की से रखी थी ऐसी डिमांड।

2019 में कमल खिलाने के लिए अमित शाह ने हर मोर्चे तैयारी कर ली है, पढ़ें पूरा प्लान।

BJP के 37वें स्थापना दिवस पर अमित शाह ने पार्टी नेताओं से 2019 के लिए रूप रेखा प्रस्तुत की है, पार्टी के लिए विजयपथ का खाका खींचते हुए शाह ने कहा कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक ऐसी जमीन तैयार करें जिससे 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी 2014 से भी बेहतर प्रदर्शन कर सके।

नई दिल्ली (ब्यूरो): यूपी चुनाव में जीत के बाद BJP ने 2019 के लिए तैयारी शुरू कर दी है। यूपी में अबतक की सबसे बड़ी जीत दर्ज करने के बाद BJP आराम की बजाय वर्किंग मूड में नजर आ रही है। 2019 से पहले BJP अपनी स्थिति मजबूत करना चाहती है। यूपी की सफलता ने BJP के लिए एक ऐसी लॉन्चिंग पैड तैयार कर दी है। जिसे पार्टी हर हाल में भुनाना चाहती है। यूपी चुनाव में BJP को उन सीटों पर भी जीत मिली जहां कभी भी पार्टी को जीत नसीब नही हुई थी। अब पार्टी 2019 को मुट्ठी में करने के लिए इसी फॉर्मूले को पूरे देश में लागू करने की तैयारी में है।

Advertisement

पार्टी दिग्गज 6-14 अप्रैल तक देश के अलग-अलग जगहों में जाकर खासकर वैसे जगहों पर जहाँ पिछली लोकसभा में पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन नही किया था और हार गई थी पार्टी कार्यकर्ताओं में जान फूंकने की कोशिश की। 2019 की तैयारी में जुटी BJP हारी हुई सीटों पर कमल खिलाने की कोशिश में है। BJP के 37वें स्थापना दिवस पर अमित शाह ने पार्टी नेताओं से 2019 के लिए रूप रेखा प्रस्तुत की है। पार्टी के लिए विजयपथ का खाका खींचते हुए शाह ने कहा कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक ऐसी जमीन तैयार करें जिससे 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी 2014 से भी बेहतर प्रदर्शन कर सके। इसके लिए BJP अभी से तैयारियों में जुट चुकी है:-

मिशन 2019 को फहत करने की पहली कड़ी है योगी को यूपी की कमान सौंपना। शाह को अंदेशा है कि यूपी की करारी हार के बाद 2019 में बसपा,सपा,कांग्रेस अगर साथ आ गई तो पिछड़ी जातियों का ध्रुवीकरण 2019 में पलटी मार सकता है। ऐसे में हिन्दू ध्रुवीकरण को पछाड़ सकता है और इस धर्मिक ध्रुवीकरण कार्ड को खेलने के लिए योगी से बेहतर क्या होगा? योगी की स्वयंभू छवि के बाद भी संघ के सांस्कृतिक एजेंडे को पूरा करने में यूपी में बड़ा पोस्टरबॉय नहीं हो सकता। ऐसे में योगी का चुनाव सिर्फ BJP के एजेंडे को पूरा नहीं करता, बल्कि वो RSS के एजेंडे का भी विस्तार है। योगी को न सेक्युलर बनने की चिंता है, न अपनी विवादित इमेज से परहेज। यही यूएसपी है कि मिशन 2019 के लिए BJP की बदली नीति के वो ट्रम्प कार्ड है।

पार्टी अध्यक्ष शाह से लेकर कई केंद्रीय मंत्री भी अलग-अलग जगहों का दौर कर पार्टी कैडर के बीच ऊर्जा का संचार करेंगे। BJP किसान मोर्चा किसानों के घर-घर जा कर किसानों के लिए सरकार द्वारा चलाई गई योजनाओं के बारे में बताएगा। BJP की तरफ से शक्ति केंद्र सम्मेलन का भी आयोजन किया जा रहा।जिसमें सांसद अपने संसदीय क्षेत्र के अलावा उन दूसरे संसदीय क्षेत्र में भी जायेगे। जहां BJP था उनके सहयोगी दल के उम्मीदवार पिछला लोकसभा चुनाव हार गए थे। इस सम्मेलन में पार्टी के बूथ स्तर के कार्यकर्ता केंद्र सरकार की अबतक की उपलब्धियों के अलावा GST बिल के बारे में जानकारी देंगे।

BJP की स्थापना के साथ-साथ पिछड़ा आयोग बनाये जाने और उसकी खूबियों की भी जानकारी दी जायेगी। पार्टी की ओर से स्वच्छता कार्यक्रम भी चलाया जायेगा। केंद्रीय मंत्री और BJP नेता जनसभाओं में हिस्सा लेंगे और लोगों को मोदी सरकार के सुशासन और जनकल्याण कार्यों के बारे में बताएंगे। उज्जवल योजना, स्किल इंडिया से जनता को अवगत करवाएंगे। BJP ने पार्टी के कायकर्ताओं एवं सांसदों को डिजिटलीकरण को बढ़ावा देने के साथ ही भीम एप का प्रचार प्रसार करने को कहा। अगले लोकसभा चुनाव में विपक्ष का महागठबंधन बनने की कवायद में BJP नेताओं संगठन के साथ आंकड़े सांझा कर उन जगहों पर काम करेगी जहां पार्टी का संगठनात्मक ढांचा कमजोर है।

पार्टी दलित और आदिवासी समुदायों को अपने साथ जोड़ने की कोशिश में है। ग्रामीण इलाकों में ज्यादा काम की जायेगी। हिंदुओं के बीच जातिगत भेदभाव को खत्म कर वोटों को एकजुट करने की तैयारी हो रही है। बताया जा रहा की पीएम मोदी ने खुद एक लम्बी लिस्ट तैयार की है जिसमें सांसदों को बताया गया है कि उन्हें क्या करना है? मोदी ने हर प्रदेश के BJP सांसदों को सोशल मीडिया का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग करने को कहा है। भाजपा 2019 से पहले अपनी स्थिति मजबूत कर 2014 के इतिहास को दोहराना चाहती है। इसके लिए शाह अपनी शाह नीति के साथ तैयार है। शाह को भी कसर छोड़ने के मूड में नही है।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles