ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• बॉलीवुड के इस सिंगर ने एक बच्ची की मां से रचाई थी शादी, विवादों से रहा हैं नाता।
• वनडे टीम से बाहर चल रहे अश्विन ने विराट कोहली को लेकर दिया बयान, मचा हंगामा।
• नाक के आकार से जानिये इंसान का स्वभाव, जानें क्या कहती हैं आपकी नाक आपके बारे में।
• मोदी सरकार के इस नए स्कीम से कमायें 80 हजार प्रति महीने, ऐसे उठाये फायदा.
• JIO के बाद मुकेश अम्बानी का एक और जबर्दस्त धमाका, मात्र इतने रुपये प्रति लीटर मिलेगा पेट्रोल.
• अमिताभ बच्चन की बेटी के बारे में सामने आई ऐसी सच्चाई, सुनकर होश उड़ जायेंगे आपके।
• दीपिका पादुकोण ने किया खुलासा, 55 साल के इस शख्स के साथ करना चाहती है शादी।
• CM योगी ने 10 साल पहले इस लड़की के सिर पर रखा था हाथ, आज तक निभा रहे हैं साथ।
• गुपचुप तरीके ने जहीर खान ने इस बॉलीवुड एक्ट्रेस से रचाई शादी, तो रोहित शर्मा ने कही ये बात।
• USA में जॉब छोड़ गाँव में बकरियां पाल रहा है ये साइंटिस्ट, कमा रहा है लाखों।
• गुजरात चुनाव में PM मोदी ने चल दिया सबसे बड़ा दांव, दंग रह गई कांग्रेस पार्टी।
• गुप्त सुरंग से इस मंदिर में आती थी रानी पद्मावती, दिखती थी कुछ ऐसी।
• धोनी ने किया खुलासा, 2007 में इसलिए बनाया गया था टीम इंडिया का कप्तान।
• शादी की पहली रात दूल्हे ने होटल में पत्नी के साथ किया ऐसा काम, वह हो गई बेहोश।
• 6 साल के लव अफेयर का ऐसे हुआ अंत, BF ने लड़की से रखी थी ऐसी डिमांड।

उपचुनाव में मोदी लहर से नहीं बल्कि जुगड़नीति ने दिलाई जीत।

हाल ही में आये 8 राज्यों की 10 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के रिजल्ट में BJP को 5 सीटों पर विजय मिली, अगर मोदी लहर था तो BJP का जादू कर्नाटक और प. बंगाल में क्यों नहीं चला?

नई दिल्ली, 23 अप्रैल: हाल ही में आये 8 राज्यों की 10 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के रिजल्ट में BJP को 5 सीटों पर विजय मिली। कांग्रेस को 3 और 2 सीटें मिली तृणमूल कांग्रेस को। दिल्ली, हिमाचलप्रदेश, राजस्थान की 3 सीटों पर BJP को फायदा जरूर मिला। लेकिन असम और मध्यप्रदेश की बाकी दोनों सीटों पर तो BJP की कब्जा तो पहले से ही था। BJP इसे मोदी लहर बता कर प्रचारित कर रही है। अगर ये मोदी लहर का परिणाम है तो बाकी सीटें भी मोदी की झोली में आनी चाहिए थी।

Advertisement

सबसे अधिक चर्चा हुई दिल्ली राजौरी गार्डन उपचुनाव में BJP की जीत और आप के जमानत जब्त होने की। लेकिन, वहां से BJP और अकाली दल ने पंजाब की तरह ही मिल कर चुनाव लड़ा था। उस सीट के विजेता मनजिंदर सिंह सिरसा मूल रूप से शिरोमणि अकाली दल के सदस्य है।

BJP की शोभा रानी कुशवाहा राजस्थान की धौलपुर सीट से जीती। BJP के मुताबिक BJP ने यह सीट बसपा से छिनी है। सच्चाई यह है कि यह सीट पहले बसपा के बीएल कुशवाहा के पास था जो शोभा रानी कुशवाहा के पति है। बीएल कुशवाह को एक मर्डर केस में आजीवन कारावास की सजा होने से यह सीट खाली हुई थी। बसपा ने इस सीट पर किसी भी उम्मीदवार को खड़ा नही किया था। उपचुनाव से पहले शोभा रानी कई बसपा कार्यकर्ताओं के साथ BJP में शामिल हुई थी।

BJP कर्नाटक में एक सीट भी हासिल नही कर पाई। उपचुनाव से पहले BJP में कांग्रेस के बुजुर्ग नेता SM Krishna को शामिल किया गया। जो ना तो BJP के लिए फायदेमंद साबित हुआ ना ही कांग्रेस के लिए नुकसानदायक। दोनो सीटों पर कांग्रेस का कब्जा हुआ। अगर मोदी लहर था तो BJP का जादू कर्नाटक में क्यों नहीं चला? पश्चिम बंगाल में भी मोदी लहर का जादू नही चल पाया और दोनों सीटें तृणमूल के खाते में गई।

दिल्ली, हिमाचलप्रदेश, राजस्थान की सीट तो BJP को जरूर मिली। असम और एमपी की बांधवगढ़ सीट तो BJP की पहले से ही थी। अटेर और लिट्टीपाड़ा सीट BJP के हाथ नही आई। अटेर वही सीट थी जहां EVM विवाद हुआ था कि कोई भी बटन दबाने पर कमल ही छप कर आता है। अगर मोदी लहर का कोई भी प्रभाव था तो जो सीटें BJP को नही मिली वहां मोदी लहर ने असर क्यो नहीं दिखाया। ये वही मोदी लहर है जिसने लोकसभा चुनाव में प्रचंड जनाधार पाने के बावजूद बिहार के विधानसभा चुनाव में कोई असर नहीं दिखा पाई थी।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles