ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• राम रहीम के साथ एक बेड पर सोती थी हनीप्रीत, सहेली ने किये और भी कई खुलासे।
• 70 सालों से बंद था इस घर का दरवाजा, खुलते ही खुली परिवार की किस्मत।
• मां ने बेटे से कहा -तुम बड़े हो गए हो मेरे पति की कमी पूरी करो और फिर हुआ ये।
• पिता के इलाज के लिए बच्ची ने PM मोदी को लिखा लेटर, तो CM योगी ने दिया ये जवाब।
• JDU राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाये गये नीतीश कुमार, लालू के साथ फिर होगा JDU का महागठबंधन।
• शाहरुख़ या सलमान नहीं बल्कि इस बॉलीवुड एक्टर को डेट करना चाहती है ये दिग्गज खिलाड़ी।
• 16 साल के लड़के पर आया मैडम का दिल, राज खुला तो उठाया ये बड़ा कदम।
• पाकिस्तानी पुलिसवाले ने कोहली को किया शादी के लिए प्रपोज, लोगों ने लगा दी क्लास।
• पीएम मोदी ने आडवाणी को क्यों दी सजा, इस बड़े नेता ने किया चौंकाने वाला खुलासा।
• सलमान नहीं बल्कि इस शख्स के लिए पागल थी ऐश्वर्या, नाम जान होश उड़ जाएंगे।
• ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में पांड्या ने की धुलाई तो धोनी ने रच दिया इतिहास।
• जिन स्त्रियों के शरीर के ये अंग बड़े होते है, वो मर्दो के लिए होती है भाग्यवान।
• रेलवे ने बनाया ऐसा नियम… जानकर आपकी नींद उड़ जायेगी।
• नहीं रहे 1965 के जंग के ये जांबाज योद्धा, पीएम मोदी ने ये बात कह दी श्रद्धांजलि।
• बहन की इन हरकतों से परेशान था भाई, प्रेग्नेंट पत्नी संग उठाया ये खौफनाक कदम।

AAP में विवाद नहीं, एक ड्रामा ख़त्म हुआ, केजरीवाल और विश्वास ने लिखी थी स्क्रिप्ट !

आप

अचानक ही कुमार विश्वास मीडिया में आप के खिलाफ बोलते नजर आने लगे। उनकी नाराजगी को शुरुआती दौर में शांत नहीं कराया गया।

नई दिल्ली(ब्यूरो), 5 मई : 5 साल पूर्व भारतीय राजनीति में आम आदमी पार्टी के उदय को राजनीतिक बदलाव के रूप में देख गया। जब आप पार्टी आकर ले रही थी, तब इसे विकल्प की राजनीति की नई शुरुआत माना गया। भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष के ताप में निखरी नई तरह की राजनीति। जिस बदलाव का भारत और भारतीय को इंतजार था। जनमानस में एक जोश पैदा हुआ, उम्मीद पनपी, पर जैसे जैसे सरकार की उम्र बढ़ी वैसे वैसे दिल्ली सरकार, उसके मंत्री और विधायक एक एक कर लोगों की उम्मीद और विश्वास तोड़ते हुए मीडिया में दिखने लगे।

Advertisement

हर वो बात जो पार्टी को लोगों के बीच ले गई पार्टी धीरे-धीरे अपने नए तर्कों के साथ उसे खुद ही नकारती नजर आई। चाहे वह गाड़ी बंगला की बात हो, विधायकों के लाखों वेतन की बात हो, महिला सुरक्षा की बात हो। पार्टी अपने बनाये उद्देश्यों से खुद ही भटकती नजर आई। आप की तब भी चर्चा हुई जब इसका उदय हुआ था। आप की आज भी चर्चा हो रही। लेकिन दोनों चर्चाओं में जमीन आसमान का अंतर है। अभी आप के सामने दो तरह के संकट नजर आ रहे। एक लगातार चुनावी हार से उपजा है, तो दूसरा जहां उसके अपने ही उस पर हावी हो रहे।

अपेक्षाएं ज्यादा हो तो निराशाएं भी ज्यादा उपजती है। आप के अंदरुनी मतभेद इसी निराशा की उपज है। लगातार हार ने पार्टी के कार्यकर्ताओं का मनोबल अर्श से फर्श पर लाकर रख दिया। जो कार्यकर्ता खुद को बदलाव का सिपाही समझ रहे थे। वो खुद को ठगा हुआ महसूस करने लगे। उनकी बुझी चेतना को हवा देने के लिए पार्टी में मंथन शुरु हुआ। ऐसे में सामने आई कुमार विश्वास की नाराजगी। पार्टी के थिंक टैंक ने कार्यकर्ताओं के जोश को वापस जगाने के लिए कुमार विश्वास की नाराजगी को जरिया बनाया।

सूत्रों के अनुसार जिन विधायकों से सिसोदिया को शिकायत थी उनमें से अमानुतल्लाह खान भी शामिल थे। जिसकी शिकायत वक्फ बोर्ड से भी मिल रही थी। अमानुतल्लाह पर करवाई करने से सिसोदिया और केजरीवाल के संकोच को दूर किया अमानुतल्लाह के बयान से विश्वास की उपजी नाराजगी।

अमानुतल्लाह पर करवाई की गई। विश्वास की नाराजगी को शांत कराया गया। इसी के साथ विश्वास की घर वापसी हो गई। और हो गया आप पार्टी की एक और नाटक का पटाक्षेप।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles