ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• बॉलीवुड के इस सिंगर ने एक बच्ची की मां से रचाई थी शादी, विवादों से रहा हैं नाता।
• वनडे टीम से बाहर चल रहे अश्विन ने विराट कोहली को लेकर दिया बयान, मचा हंगामा।
• नाक के आकार से जानिये इंसान का स्वभाव, जानें क्या कहती हैं आपकी नाक आपके बारे में।
• मोदी सरकार के इस नए स्कीम से कमायें 80 हजार प्रति महीने, ऐसे उठाये फायदा.
• JIO के बाद मुकेश अम्बानी का एक और जबर्दस्त धमाका, मात्र इतने रुपये प्रति लीटर मिलेगा पेट्रोल.
• अमिताभ बच्चन की बेटी के बारे में सामने आई ऐसी सच्चाई, सुनकर होश उड़ जायेंगे आपके।
• दीपिका पादुकोण ने किया खुलासा, 55 साल के इस शख्स के साथ करना चाहती है शादी।
• CM योगी ने 10 साल पहले इस लड़की के सिर पर रखा था हाथ, आज तक निभा रहे हैं साथ।
• गुपचुप तरीके ने जहीर खान ने इस बॉलीवुड एक्ट्रेस से रचाई शादी, तो रोहित शर्मा ने कही ये बात।
• USA में जॉब छोड़ गाँव में बकरियां पाल रहा है ये साइंटिस्ट, कमा रहा है लाखों।
• गुजरात चुनाव में PM मोदी ने चल दिया सबसे बड़ा दांव, दंग रह गई कांग्रेस पार्टी।
• गुप्त सुरंग से इस मंदिर में आती थी रानी पद्मावती, दिखती थी कुछ ऐसी।
• धोनी ने किया खुलासा, 2007 में इसलिए बनाया गया था टीम इंडिया का कप्तान।
• शादी की पहली रात दूल्हे ने होटल में पत्नी के साथ किया ऐसा काम, वह हो गई बेहोश।
• 6 साल के लव अफेयर का ऐसे हुआ अंत, BF ने लड़की से रखी थी ऐसी डिमांड।

छत्तीसगढ़ में नक्सली हमला नोटबंदी की विफलता का सूचक है।

अगर, BJP चुनाव की जीत को नोटबन्दी की सफलता मानती है तो CRPF पर नक्सलियों का हमला नोटबन्दी की विफलता नही तो और क्या है?

नयी दिल्ली, 27 अप्रैल : CRPF की टीम सुकमा के चिंतगुफा में सड़क निर्माण कार्य की सुरक्षा में लगी हुई थी। चिंतागुफा थाना क्षेत्र में CRPF और जिला बल के संयुक्त दल को गश्त के लिए रवाना किया गया था। दल जब बुरकापाल क्षेत्र में था, तब नक्सलियों ने हमला कर दिया।

Advertisement

छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में CRPF के 11 जवान शाहिद हो गए है। जो CRPF की 74वीं बटालियन के थे। हमले में 7 जवान घायल भी हुए है। जिनमें 5 की हालत गंभीर है।

नोटबन्दी के बाद पिछले 6 माह में यह सबसे बड़ी नक्सली हमला है। Nov में पीएम मोदी ने नोटबन्दी का एलान किया था। जिसके बाद 500 और 1000 के नोटों पर रोक लग गई थी। पूरी भारत की जनता ATM के सामने कतार में खड़ी हो गई थी।

नोटबन्दी के बाद पीएम मोदी ने कहा था कि नोटबन्दी घरेलू आतंकियों(नक्सलियों) से मुक्ति देगी। नोटबन्दी के बाद नक्सलियों की कमर टूट जायेगी।

पर आज के हमले के बाद ऐसा कुछ भी होता हुआ नजर नहीं आ रहा। नोटबन्दी के 6 माह के भीतर ही इतना बड़ा हमला नोटबन्दी की विफलता को द्योतक है।

यूपी चुनाव में प्रचण्ड जीत हासिल करने के बाद BJP वालों के द्वारा नोटबन्दी की सफलता के दास्तान सुनाये जा रहे। BJP के मुताबिक चुनाव में BJP को मिली जीत यह साबित करती है कि नोटबन्दी पूरी तरह सफल रही। नोटबन्दी को जनस्वीकृति मिली। जनता ने पीएम के फैसले पर विस्वाश जताया।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles