ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• बॉलीवुड के इस सिंगर ने एक बच्ची की मां से रचाई थी शादी, विवादों से रहा हैं नाता।
• वनडे टीम से बाहर चल रहे अश्विन ने विराट कोहली को लेकर दिया बयान, मचा हंगामा।
• नाक के आकार से जानिये इंसान का स्वभाव, जानें क्या कहती हैं आपकी नाक आपके बारे में।
• मोदी सरकार के इस नए स्कीम से कमायें 80 हजार प्रति महीने, ऐसे उठाये फायदा.
• JIO के बाद मुकेश अम्बानी का एक और जबर्दस्त धमाका, मात्र इतने रुपये प्रति लीटर मिलेगा पेट्रोल.
• अमिताभ बच्चन की बेटी के बारे में सामने आई ऐसी सच्चाई, सुनकर होश उड़ जायेंगे आपके।
• दीपिका पादुकोण ने किया खुलासा, 55 साल के इस शख्स के साथ करना चाहती है शादी।
• CM योगी ने 10 साल पहले इस लड़की के सिर पर रखा था हाथ, आज तक निभा रहे हैं साथ।
• गुपचुप तरीके ने जहीर खान ने इस बॉलीवुड एक्ट्रेस से रचाई शादी, तो रोहित शर्मा ने कही ये बात।
• USA में जॉब छोड़ गाँव में बकरियां पाल रहा है ये साइंटिस्ट, कमा रहा है लाखों।
• गुजरात चुनाव में PM मोदी ने चल दिया सबसे बड़ा दांव, दंग रह गई कांग्रेस पार्टी।
• गुप्त सुरंग से इस मंदिर में आती थी रानी पद्मावती, दिखती थी कुछ ऐसी।
• धोनी ने किया खुलासा, 2007 में इसलिए बनाया गया था टीम इंडिया का कप्तान।
• शादी की पहली रात दूल्हे ने होटल में पत्नी के साथ किया ऐसा काम, वह हो गई बेहोश।
• 6 साल के लव अफेयर का ऐसे हुआ अंत, BF ने लड़की से रखी थी ऐसी डिमांड।

अगर गलती से भी लिया ये नोट तो हो जाएगा रद्दी, भले ही करारा हो।

सरकार डिजिटल ट्रांजैक्शन पर जोर दे रही है मगर, इसके बावजूद देश में लाखों लोग नकद लेन-देन पर ही विश्वास करते हैं। 

नई दिल्ली, 7 सितंबर :आज कल सरकार डिजिटल ट्रांजैक्शन पर जोर दे रही है। मगर, इसके बावजूद देश में लाखों लोग नकद लेन-देन पर ही विश्वास करते हैं। इसलि‍ए हमें यह पता होना जरूरी है कि‍ कब एक अच्‍छा-खासा, साबुत और करारा नोट भी रद्दी हो जाता है। वह नोट चाहे 100 का हो या 2000 का। रिजर्व बैंक ने 3 जुलाई को मास्टर सर्कुलर जारी किया है जिसमे खास तौर पर इसकी हिदायत दी गई है।

Advertisement

आज हम आपको ऐसे ही कुछ गाइडलाइंस बता रहे है जि‍नमें आपको नोट स्‍वीकार नहीं करना चाहि‍ए। अगर आपने ऐसे नोट को स्‍वीकार कर लिया तो समझ लें कि‍ आपने रद्दी स्‍वीकार की है, भले ही नोट बि‍ल्‍कुल कड़क हो। ऐसे नोट को लेकर आप बैंक में क्लेम नहीं कर सकते। बैंक ने भी नोट की वो कंडीशन भी बताई है, जि‍स तरह का नोट अगर बैंक दे तो नहीं लेना चाहिए।

यदि किसी नोट पर राजनीतिक नारा या संदेश लिखा गया है, तो वैसे नोट को नहीं लेना चाहिए। वे लीगल टेंडर नहीं होते हैं और बैंक इन नोटों पर किसी भी दावे का भुगतान नहीं करेगा। RBI के नोट रि‍फंड रूल्‍स 2009 के 6(3) (iii) के तहत रि‍जेक्‍ट कर दि‍या जाएगा।

मास्टर सर्कुलर में खराब नोटों की परिभाषा भी दी गई है। इसमें गंदे नोटों और विरूपित नोटों के बारे में कहा गया है। गंदे नोट वे हैं, जो समय के साथ या ज्यादा चलन में होने के कारण बदरंग हो जाते हैं। इसमें वे नोट भी शामिल होते हैं, जो लेन-देन में फट जाते हैं और उन्हें इस तरह से जोड़ दिया जाता है, जिससे नोट का कोई सिक्योरिटी फीचर छिपता नहीं है। आमतौर पर आपने भी सेलो टेप लगे ऐसे नोट देखे होंगे।

जब नोट लेन-देन के दौरान दो भागों में फट जाता है और उसका एक हिस्सा खो जाता है। तो ऐसे नोटों को म्यूटेलेटेड नोट्स या विरूपित नोट कहा जाता है। इन्हें हर ब्रांच में नहीं बदला जाता है। ऐसे नोटों के बदले में पूरा मूल्य मिलेगा, आधा मूल्य मिलेगा या कोई पैसा नहीं मिलेगा, यह RBI के नोट रिफंड रूल्स 2009 के तहत तय होता है।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles