ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• रोज खाएं पानी में भीगी हुई मूंगफली के कुछ दाने, होंगे ये 7 फायदे।
• इंटरव्यू के दौरान पूछा गया अटपटा सवाल, जिसका लड़की ने दिया ये करारा जवाब।
• प्रियंका चोपड़ा ने कैमरे के सामने इस काम को कहा था ना, भुगतना पड़ा था ये खामियाजा।
• ये है राष्ट्रपति की बेटी, अब इस कारण से छोड़नी पड़ रही है एयरहोस्टेस की जॉब।
• जब शूटिंग के दौरान प्रेग्नेंट हो गई थी ये एक्ट्रेस, घर बैठने के बजाये किया कुछ ऐसा।
• कमजोर शरीर में जान डाल देगा ये ड्राई फ्रूट, पोषण से है भरपूर।
• चाय बेचकर बना करोड़पति, कभी इस वजह से रिजेक्ट कर देते थे लड़की वाले।
• PM मोदी को सुनानी हो फ़रियाद या करना चाहते है सीधे संपर्क, इन 8 तरीकों से हो सकती है बात।
• टीम इंडिया के इस गेंदबाज ने किया खुलासा, टीम में जगह न मिलने पर करना चाहता था सुसाइड।
• दौड़ के बाद हुई छात्र की मौत, अंतिम संस्कार के दौरान खुली आंख तो हुआ ये सब।
• पति नहीं करता था टच, पत्नी ने सुसाइड नोट में लिखी ये रुला देने वाली बात।
• लगातार हो रही आलोचना पर धोनी ने तोड़ी चुप्पी, विरोधियों को दिया ये करारा जवाब।
• इस IPS ने काटा था धोनी का चालान, अब इस काम के लिए मिलेगा पुरस्कार।
• मध्य प्रदेश में भाजपा को लगा तगड़ा झटका, चित्रकूट विधानसभा सीट पर कांग्रेस का कब्जा।
• यहां लगा था वो शीशा, जहां से अलाउद्दीन खिलजी ने पद्मावती को देखा था।

समय के बढ़ते दबाव और भारतीय परिवार।

NewsToIndia :दरअसल, भारतीय परिवार ही भारतीय समाज की सबसे बड़ी ताकत है और वही उसकी सबसे बड़ी सीमा भी। भारत ऊपर-ऊपर से बहुत बदला है और तेजी से बदलता जा रहा है। पर यह उन बुनियादी चीजों से  अधिक नहीं बदल पा रहा है जिन पर इस राष्ट्र का पूरा का पूरा भविष्य टिका हुआ है। आजादी की लड़ाई के दौरान भारतीय जनता जो राजनीतिकरण शुरू हुआ था, लोकतंत्र के पौन सदी के अभ्यास ने उस राजनीतिकरण को और बढ़ाया है। भारतीय जनमानस और राजनीतिक हुआ है। यह बेशक अच्छी बात है। क्योंकि इसे देश “कोऊ नृप होय हमें का हानि ” की मानसिकता सदियों तक बहुत प्रभावी रही है और देश के चौतरफा पतन का कारण भी रही है। मगर चिंता की एक बात है। वह यह की जनता की बढ़ती राजनीतिक सजकता दिशाहीन है। मूल्यविहीन भी है। क्योंकि यह सिर्फ सत्ता की राजनीती से जुडी हुई है।

भारतीय लोकतंत्र के सतत अभ्यास ने सत्ता की राजनीती को मजबूत  किया है। समाज परिवर्तन की राजनीति कमजोर हुई है। हालाँकि बहुत तरह की आर्थिक दवाबों, बदलती तकनीक के आदि के चलते समाज भी कुछ बदला है। पर यह बदलाव पर्याप्त नहीं है। सही दिशा में भी नहीं है। परिवार समाज की बुनियाद है और इसमें बहुत बदलाब नहीं आ सका है। वह जिन आधारों पर सदियों से टिका रहा है, उन्ही आधारों पर वह आज भी है। जहाँ कहीं ये आधार बदले है, वहां भी एक खास तरह की अवसरवादिता ने जगह बनाई है। भारत के भविष्य का सामना सीधे-सीधे इस बात से है की व्यक्ति बदले, परिवार बदले, समाज बदले और ये सभी मिलकर देश की राजनीती की सोच बदल दें। देश की राजनीतिक जागरूकता को, मतदान के अधिकार को, लोकतंत्र की सफलता को बढ़ाना और घनीभूत होना चाहिए। मगर उसे कम  से कम अब तो अपनी दिशा अपने स्वरूप के बारे में सोचना चाहिए।

Advertisement

यानी कुल मिलाकर कहानी यह है की पांच -छह हजार साल पुराना यह देश अपनी जिस चिरंतनता में निश्चिंत था , उसमें इसकी आने वाली पीढियां निश्चिंत नहीं रह पायेगी। यदि भारत का व्यक्ति न बदला और समाज का गठन न बदला तो इतिहास उसे तोड़ देगा। क्योंकि किसी भी गुजरी सदी की तुलना में अब  भारतीय परिवार जो दबाब है वह दिनोदिन बढ़ने वाला है, मनोवैज्ञानिक, सांस्कृतिक, आर्थिक….. हर रूप में। शुतुरमुर्ग अब अपने ही पंखों में छिपकर सुरक्षित नहीं रह सकता है।

आलोक श्रीवास्तव (email: alok.srivastava@dbcorp.in)

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles