ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• रस्सी से बांध बॉडी पर डाला शराब, फिर दारोगा के साथ लड़कियों ने किया ये काम।
• पत्नी की मौत के बाद पति निकला था टहलने, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ ये बड़ा खुलासा।
• टूट सकती है एक्ट्रेस श्वेता तिवारी की दूसरी शादी, ये रही वजह।
• गुरदासपुर उपचुनाव :कांग्रेस उम्मीदवार को जीत की बधाई देने पहुंचे सिद्धू ने दिया ये जबर्दस्त बयान।
• गुजराल सरकार पर प्रणव मुखर्जी ने किया ये हैरान करने वाला खुलासा, जानकर हिल जायेंगे।
• हिमाचल चुनाव को लेकर बीजेपी ने खोले अपने पत्ते, ये दिग्गज नेता होगा सीएम कैंडिडेट।
• चूर-चूर हुआ PM मोदी का सपना, अब इस कारण से भारत में नहीं दौड़ेगी ‘बुलेट ट्रेन’।
• हिमाचल में कांग्रेस को लगा एक और तगड़ा झटका, इस बड़े मंत्री ने थामा भाजपा का दामन।
• एक किन्नर हर साल करता है शादी और अंतिम संस्कार, वजह चौंकाने वाली है।
• कभी था हलवाई फिर बन गया बाबा, होश में आने पर महिला ने बताई करतूत।
• सुहागरात मनाने के बाद सुबह पति को सोता छोड़ गई थी पत्नी, अब सामने आई ये सच्चाई।
• भारत में यहां किराए पर मिलती 1 साल के लिए बीबी, ऐसे होता है सौदा।
• तीसरे टी-20 से पहले सहवाग ने किया था ये भविष्यवाणी, जो अंत में हुआ सच साबित।
• ‘नशे में भरी थी मांग, मैं उन्हें पति नहीं मानती’ GF के कहने पर पत्नी ने दिया ये जवाब।
• बेटी से हुई शादी लेकिन माँ को लेकर फरार हुआ बेटा, अब थाने में किया ये खुलासा।

नीति नहीं नियत की सरकार है “मोदी सरकार” – रविश कुमार।

अगर मोदी का फैसला देश के लिए है तो जो परेशान हो रहे है वो भी तो उसी देश के है – रवीश कुमार

मैंने कभी नीयत के आधार पर किसी फैसले की ऐसी तारीफ नहीं देखी। मोदी जी की नीयत फैसले के असर से भी बड़ी हो गई है। नोटबंदी के दो पार्ट है। पहला, नीयत और दूसरा लागू होने के नाम पर कोहराम। दुनिया का यह पहला फ़ैसला है, जो कम से कम दस दिनों तक बुरी तरह फ़ेल है, इसके बाद भी फ़ैसला लेने के इरादे के पैमाने पर ज़िला भर में टॉप है। लल्लन टॉप है। मल्लब जिस फैसले से आपका अस्सी फीसदी बिज़नेस चौपट हो जाए, फिर भी आप उसकी तारीफ कर रहे हैं क्योंकि फ़ैसला लेने का इरादा सही था ! क्या किसी फैसले का ऐसा इरादा ठीक है कि आपका अस्सी फीसदी बिज़नेस डूब जाए। आपका इरादा तो ठीक है न !

Advertisement

आठ नवंबर की मध्यरात्रि से नोटबंदी ही नहीं हुई है, बल्कि उस दिन से फैसले की एक नई समीक्षा भी बाज़ार में लाँच की गई। तय हुआ कि सही या ग़लत होना इसके लागू होने से कोई ताल्लुक़ नहीं रखता है क्योंकि फैसले के लिए जाने का इरादा ठीक था। ऐतिहासिक था। साहसिक था। नीयत अच्छी थी। बोलने वाला कह रहा है कि उसके धंधे की मैय्यत निकल गई है मगर फैसले की नीयत सही है। अगर नोटबंदी से प्रधानमंत्री मोदी ने कुछ हासिल किया है तो वो यही कि उनके इरादे की विश्वसनीयता बढ़ी है। लागू करने की विश्वसनीयता घटी है। अबकी बार नीयत सरकार। भारत एक नीयत प्रधान देश हो गया है। हर कोई यहाँ नीयत का डाक्टर है। इससे प्रेरित होकर अब प्रधानमंत्री जी कुछ भी फ़ैसला ले सकते हैं। उनकी नीयत पर जनादेश आ गया है।  बल्कि अब वे लागू होने पर समय बर्बाद न करें। सिर्फ फ़ैसला लेने की नीयत का ख़्याल रखें।

मोदी ने फ़ैसला तो शानदार लिया है लेकिन…। सबकी ज़ुबान पर यह लाइन कहाँ से आ गई? क्या मीडिया से सबने एक ही बात बोलना सीखा? अचानक भारत में नीयत के एक्सपर्ट कहाँ से पैदा हो गए। क्या लोग ‘लेकिन’ से भी पहले कुछ कहना चाहते हैं मगर कह नहीं पा रहे? यह कैसा फ़ैसला है जिसकी आलोचना ‘लेकिन’ रूपी इंटरवल के बाद से शुरू होती है। पचास से अधिक लोग नोटबंदी के तनाव के कारणों से मर गए। ग़रीब लोग पैसे के लिए तरस गए। मंडी सूख गई। पावरलूम थम गया। किसान सहम गया। लोग अपना पैसा नहीं निकाल सकते। शादियों के घर में मारामारी है। कई दिन तक दिहाड़ी मज़दूर कमाने नहीं निकले। बच्चे दूध के लिए तरस गए। बीमार दवा बिना मर गए। कोई लिख रहा है कि बाज़ार में मंदी रहेगी। देश की  जीडीपी की रफ़्तार थम जाएगी। फिर भी यह अच्छा फ़ैसला है क्योंकि मोदी जी की नीयत सही थी। क्या यह सब उस फैसले का पार्ट नहीं है?

क्या मोदी जी नीयत से फ़ैसला लेते हैं? तो मोदी जी की कैबिनेट क्या करती है? मंत्रालय क्या करते हैं? वित्त मंत्री क्या करते हैं? उनके अधिकारी क्या करते हैं? जब ये लोग कुछ नहीं करते तो फिर मोदी जी क्या करते हैं? उनकी कमेटियाँ क्या करती हैं? क्या भारत सरकार नीयत से चलती है ? छह महीने से क्या तैयारी चल रही थी ? क्या नीयत का अभ्यास हो रहा था ? नीयत की इतनी तारीफ हो रही है जैसे मोदी जी ने नीति नहीं नीयत लागू किया है । क्या हम तमाम नीतियों का मूल्याकंन इस पैमाने पर करेंगे कि जाने दो नीयत सही थी। अगर ऐसा है तो भारत सरकार को तुरंत नीति आयोग भंग कर देना चाहिए। नीयत आयोग बनाना चाहिए। नीयत आयोग हर फैसले को सर्टिफ़िकेट देगा। नीयत सही है तो कर चलो। भले ये लागू न हो सके।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles