ताज़ा खबर

ताज़ा खबर
• राम रहीम के साथ एक बेड पर सोती थी हनीप्रीत, सहेली ने किये और भी कई खुलासे।
• 70 सालों से बंद था इस घर का दरवाजा, खुलते ही खुली परिवार की किस्मत।
• मां ने बेटे से कहा -तुम बड़े हो गए हो मेरे पति की कमी पूरी करो और फिर हुआ ये।
• पिता के इलाज के लिए बच्ची ने PM मोदी को लिखा लेटर, तो CM योगी ने दिया ये जवाब।
• JDU राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाये गये नीतीश कुमार, लालू के साथ फिर होगा JDU का महागठबंधन।
• शाहरुख़ या सलमान नहीं बल्कि इस बॉलीवुड एक्टर को डेट करना चाहती है ये दिग्गज खिलाड़ी।
• 16 साल के लड़के पर आया मैडम का दिल, राज खुला तो उठाया ये बड़ा कदम।
• पाकिस्तानी पुलिसवाले ने कोहली को किया शादी के लिए प्रपोज, लोगों ने लगा दी क्लास।
• पीएम मोदी ने आडवाणी को क्यों दी सजा, इस बड़े नेता ने किया चौंकाने वाला खुलासा।
• सलमान नहीं बल्कि इस शख्स के लिए पागल थी ऐश्वर्या, नाम जान होश उड़ जाएंगे।
• ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में पांड्या ने की धुलाई तो धोनी ने रच दिया इतिहास।
• जिन स्त्रियों के शरीर के ये अंग बड़े होते है, वो मर्दो के लिए होती है भाग्यवान।
• रेलवे ने बनाया ऐसा नियम… जानकर आपकी नींद उड़ जायेगी।
• नहीं रहे 1965 के जंग के ये जांबाज योद्धा, पीएम मोदी ने ये बात कह दी श्रद्धांजलि।
• बहन की इन हरकतों से परेशान था भाई, प्रेग्नेंट पत्नी संग उठाया ये खौफनाक कदम।

क्रांति क्या हैं?

भगत सिंह से निचली अदालत में पूछा गया था कि क्रांति से उसकी मंशा क्या हैं ? उस प्रश्न का उत्तर यह हैं कि क्रांति का अर्थ न तो केवल रक्तचाप हैं और न व्यक्तिगत द्वेष और न वह केवल बम या पिस्तौल का दर्शन हैं। 

NewsToIndia :क्रांति से हमारा मतलब हैं, आज की शासन व्यवस्था, जिसकी आधारशिला अन्याय हैं, उसे बदलना। उत्पादनकर्ता या मजदूर जो समाज का आवश्यक अंग हैं, शोषक उसका शोषण कर रहे हैं तथा उसके प्राथमिक अधिकारों का हनन कर रहे हैं, दूसरी ओर किसान जो अनाज पैदा करता हैं, वह भी अपने परिवार सहित भूखा मर रहा हैं, बुनकर जो दुनिया की मंडियों को कपड़ा देता हैं उसे अपना तथा अपने बाल-बच्चों का तन ढंकने का कपड़ा नसीब नहीं होता हैं।

Advertisement

बढई, राज और अन्य कारीगर जो बड़े-बड़े महलों का निर्माण करते हैं, स्वयं गंदी बस्तियों में रहते हैं। वहीं दूसरी ओर स्थिति ऐसी हैं कि पूंजीपति, शोषक तथा समाज के जोंक केवल अपनी सनक पर लाखों बर्बाद कर देते हैं। यह भीषण असमानता और जबरदस्ती निर्माण किया गया असंतुलन समाज में अराजकता का कारण होगा, परंतु यह अवस्था अधिक समय तक नहीं रहेगी।

आज का समाज ज्वालामुखी के मुंह पर आनंद कर रहा हैं और शोषकों के मासूम बच्चे लाखों की संख्या में बड़े खतरनाक कगार पर चल रहे हैं। सभ्यता की इस इमारत को यदि समय पर नहीं बचाया गया तो वह नष्ट- भ्रष्ट हो जायेगी, इसलिए क्रांतिकारी परिवर्तन आवश्वक हैं और जो इसकी आवश्यकता समझते हैं, उन्हें चाहिए की वे समाजवादी व्यवस्था के आधार पर नए  समाज का निर्माण करे।

जब तक यह नहीं होगा, मनुष्य द्वारा मनुष्य का शोषण, राष्ट्र के द्वारा राष्ट्र का शोषण जिसका कि दूसरा नाम पूंजीवाद हैं, समाप्त नहीं किया जाता तब तक मानवता के भीषण कष्ट और विनाशों को रोका नहीं जा सकता और तब तक युद्ध रोकने की लंबी- चौड़ी बातें करना भी बेकार तथा दंभ मात्र हैं।

अन्य सटीक और विश्वशनीय जानकारी के लिए हमारा पेज लाइक करें :-
Loading...

Related Articles